कंजूस पड़ोसी की बीवी की चूत चूदाई – Part 2

अपना अण्डरवियर उतारकर मैंने अपने लण्ड पर हाथ फेरा और ढेर सी क्रीम लण्ड पर चुपड़ कर मैं रेखा की टांगों के बीच आ गया. रेखा की मांसल जांघें और ताजा ताजा शेव की गई डबलरोटी जैसी चूत मुझे आमंत्रित कर रहे थे. चूदाई का भरपूर मजा लेने के लिए मैंने रेखा के चूतड़ों के नीचे एक तकिया रखा. रेखा की चूत के होंठ फैला कर मैंने अपने लण्ड का सुपारा रखा और पूरा लण्ड एक ही बार में पेल दिया.

Read More

गाँव की देसी चूत शहर में चुदी-2 – Part 2

दो मिनट तक मेरी चूचियों को चूमने और काटने के बाद वो फिर से मेरी पजामी खींचने लगा. मैंने उसको रोका तो उसने मेरे हाथ झटक दिये और अगले ही पल मेरी पजामी खींच दी.

Read More

मेरी चालू बीवी लंड की प्यासी-1

सुहागरात को ही मुझे शक हो गया कि मेरी पत्नी शादी से पहले अपनी चूत में कई लंड ले चुकी है. मगर उसके बाद भी मैंने उससे प्यार किया. एक दिन मैं उसके मायके गया तो .

Read More

गोरे बदन को देखकर लंड तन गया – Part 2

मैंने भी फिर ज्यादा देर रुकना उचित नहीं समझा और मैं वहां से चुपचाप चला गया लेकिन मैं अपने भैया और अपने परिवार का सर नीचा होते हुए नहीं देख सकता था इसलिए मैंने इसके लिए कुछ करने की सोची परंतु मेरे समझ में नहीं आ रहा था कि मैं कैसे शोभिता भाभी को समझाऊं, यह काम सिर्फ मुझे ही करना था और इस काम के लिए मैंने अपने एक दोस्त की मदद ली, वह बड़ा ही शातिर और तेज दिमाग का है उसने मेरी बहुत मदद की और कहा कि तुम बिल्कुल भी चिंता मत करो मैं सब कुछ ठीक कर दूंगा क्योंकि मैंने उसे सब कुछ बता दिया था और उसने मुझे पूरा आश्वासन दिया कि वह सब कुछ ठीक कर देगा, मुझे उस पर पूरा भरोसा भी था कि वह मेरे परिवार का सर नीचा नहीं होने देगा। उसने मुझे शोभिता भाभी की नंगी तस्वीर दिलवा दी जैसे ही मेरे पास शोभिता भाभी की नंगी तस्वीर आई तो उनका चिकना शरीर देखकर मैं उन्हें चोदने की लालसा अपने मन में पाल बेठा लेकिन मेरे आगे दुविधा थी कि वह मेरी होने वाली भाभी थी मै उनके साथ ऐसा नहीं कर सकता था परंतु जब भी मै उनकी नंगी तस्वीर को देखता तो मेरे अंदर उन्हे लेकर एक अलग ही भावना पैदा हो जाती और मैं उनकी किसी भी हाल में चत मारना चाहता था। मैंने भी यह पूरी तरीके से ठान लिया था कि उनके साथ मुझे सेक्स करना ही है। एक दिन अपने मन में मै लालसा लिए उनसे मिलने की सोची जब मैं उनसे मिलने के लिए पहुंचा तो वह बड़े ही नखरे दिखा रही थी। मैंने उनसे प्यार से बात करने की कोशिश की तो उनका रवैया उस दिन बिल्कुल अलग था। वह मुझे कहने लगी देखो अंकित अब तुम यह सब बात छोड़ दो मैं तुम्हारे भैया से किसी भी हाल में शादी नहीं करना चाहती।

Read More

दो सहेलियां

अदिति की जुबानी मैं आपके सामने अपनी 34-28-36 की फिगर का एक नायाब धमाका एक ऐसी स्टोरी के माध्यम से करने जा रही हूँ जो आपकी पेंट को गीला कर देगा।

Read More

मैं बहनचोद बना मुंह-बोली बहन को चोद कर

दोस्तो, मेरा नाम अखिल है। मैं दिल्ली का रहने वाला हूं। आज मैं आपको एक सच्ची बहनचोद कहानी बताना चाहता हूं। ये कहानी मेरी और मेरी बहन के बीच हुई एक सच्ची घटना है। मैं अपने बारे में बता दूं कि मेरी उम्र 25 साल है। रंग गोरा है और हाइट 5.9 फीट है।

Read More

मेरी चालू बीवी लंड की प्यासी-5 – Part 2

पापा ने मम्मी को राजी कर लिया और हमारे पास कॉल कर दिया. 5 मिनट बाद मैं घर पहुंचा. उनके रूम में मैं सीधे पहुंच गया. मम्मी हमारी वाली पोज की तरह ही पापा के ऊपर बैठ कर चूत चटवा रही थी.

Read More

पुलिस वाली रंडी बन कर चुदी

ब्यूटी पार्लर की आड़ में मैं कालगर्ल का धंधा भी कर लेती थी. एक नयी पुलिस वाली की भारती हुई और वो मेरे काम में रुकावट बनने लगी. तो मैंने उसका इलाज कैसे किया?

Read More

कमसिन जवानी का वो खेल

नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम रॉकी है, मेरी उम्र 32 वर्ष और मैं उदयपुर राजस्थान से हूँ। कभी कभी आपके हमारे जीवन में ऐसी घटनाएं घट जाती हैं जिनको हम कभी भुला नहीं पाते। कुछ ऐसा ही एक वाकया मेरी जिंदगी के साथ भी जुड़ा हुआ है जिसे कभी भुलाया नहीं जा सकता.

Read More

गांड मरवाने का फायदा हुआ – Part 2

राजेश कहने लगा भैया आपने मेरे लिए इतना कुछ किया है पिताजी के देहांत के बाद आपने ही तो मुझे संभाला है, कंचन का नेचर हालांकि पहले से ज्यादा बदल चुका है और ना जाने उसे भाभी से क्या आपत्ति है लेकिन फिर भी मैं उन बातों को गौर नहीं करता। मैं भी वहीं बैठी हुई थी मैंने राजेश से कहा देखो राजेश मैं तुम्हें काफी समय से जानती हूं मैंने कभी भी तुम्हारे बारे में गलत नहीं सोचा, राजेश कहने लगा भाभी मैं आपके नेचर को जानता हूं आप बहुत ही अच्छी हैं, राजेश कहने लगा मैं इस बारे में कंचन से बात करता हूं और वह यह कहते हुए वहां से चला गया। राजेश ने कंचन को बहुत समझाया लेकिन वह बिल्कुल भी ना समझी मैंने भी सोचा मुझे अपना रंग दिखाना पड़ेगा। मैं राजेश को अपने बस में करना चाहती थी उसके लिए सिर्फ मेरे पास एक ही रास्ता था मुझे उसके साथ सेक्स करना जरूरी था। एक दिन मैं अपने कमरे में बैठी हुई थी राजेश मेरे पास आया और कहने लगा भाभी आप क्या कर रही हो। मैंने उसे कहा बस राजेश ऐसे ही बैठी हूं मैंने उसे कहा आओ मेरे पास बैठो। वह मेरे पास आकर बैठ गया जब वह मेरे पास आकर बैठा तो मैंने उससे बात करना शुरू कर दिया वह मुझे कोई भी जवाब नहीं दे रहा था लेकिन मुझे तो पता था कि मुझे उसके साथ सेक्स करना ही है।

Read More

चाची ने रबड़ी लगाकर चूत चाटना सिखाया – Part 2

मैं धीरे धीरे चाची की चुचियों पे किस करता हुआ नीचे आने लगा और रबड़ी को चाटने लगा, जो चाची ने अपनी चूत की फांकों के बीच लगाई हुई थी. रबड़ी की वजह से चाची की चूत बहुत मीठी लग रही थी. अब मैं चाची की चूत को चाटने लगा और चूत के ऊपर के दाने को हल्का हल्का काटने लगा.

Read More

मामा की बेटी की रस भरी चुदाई

दोस्तो, मेरा नाम परम है और मैं दिल्ली में रहता हूं। मैं हमेशा से ही हिन्दी सेक्स स्टोरी पढ़ा करता था। आज मैं भी आपको अपने साथ हुई एक सच्ची घटना बताना चाहता हूं। यह कहानी एकदम सच है। ये मेरी पहली स्टोरी है. मैंने अन्तर्वासना की बहुत सारी कहानियां पढ़ी हैं. सारी कहानियां एक से बढ़कर एक हैं. मैं वैसी कहानी तो आपको पेश नहीं कर पाऊंगा क्योंकि इस साइट पर उच्च कोटि के लेखक कहानी लिखते हैं.

Read More

जीवन में खुशहाली आ गयी – Part 2

मैंने उसे कहा यदि तुम्हें वह अच्छा लग रहा है तो तुम उससे अपने दिल की बात कह दो सुरभि कहने लगी लेकिन मेरी हिम्मत उससे बात करने की नहीं होती इसलिए मैंने अब तक उससे अपने दिल की बात नहीं कही, कुछ दिनों बाद सुरभि ने मुझे कहा कि मैंने उस लड़के से अपने दिल की बात कह दी है और उसने भी मुझे हां कह दिया है, उस दिन उसके चेहरे पर बहुत खुशी थी मैं समझ नहीं पा रहा था कि मुझे उस वक्त क्या करना चाहिए लेकिन मैंने उस समय चुप रहना ही मुनासिब समझा उसके बाद सुरभि मुझे कई दिनों तक नहीं मिली मुझे उससे नहीं मिलने का दुख सता रहा था मैं बहुत ज्यादा दुखी था मैंने सुरभि को फोन किया तो सुरभि ने फोन उठाते हुए कहा हां अमन कहो, मैंने उसे कहा मुझे तुमसे मिलना था, वह कहने लगी ठीक है मैं तुमसे अपने ऑफिस के बाद मिलती हूं। जब वह मुझे मिली तो उसके साथ एक लड़का भी था उस लड़के को देखकर मैं थोड़ा नर्वस सा हो गया सुरभि ने मुझे जब उससे मिलवाया तो वह कहने लगी यह सूरज है मैं सूरज की ही बात तुमसे कर रही थी, उसने मुझे सूरज से मिलवाया, मैं काफी दुखी हो गया था कुछ देर बाद वह दोनों मेरे चेहरे पर देख कर बड़ी जोर से हंसने लगे मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि वह क्यों हंस रही है, तब मुझे सुरभि ने सारी बात बताई और कहा कि मैं तो तुम्हें ऐसे ही आजमा रही थी कि तुम मेरे बारे में क्या सोचते हो, जब उसने यह बात कही तो मेरे चेहरे पर एक मुस्कान आई और मुझे यह पता चल चुका था कि सुरभि ने मेरा बेवकूफ बनाया है। सूरज उसका कलीग है वह ऑफिस में उसके साथ काम करता है सुरभि मुझे सिर्फ यह दिखाना चाहती थी कि मै उससे कितना प्यार करती हू।

Read More

सेक्स की पहली नींव रख दी – Part 2

गुंजन मुझे कहने लगी मैं समझ सकती हूं कि तुम मुझसे कितना प्रेम करते हो लेकिन मैं अपने घर वालों के खिलाफ जाकर कोई भी कदम नहीं उठा सकती, मैंने गुंजन से कहा तुम इस बारे में एक बार अपने दिल से सोच कर देखना,  गुंजन ने भी कहा ठीक है मैं इस बारे में सोचूंगी। मैं भी उसके पीछे हमेशा जाया करता था धीरे-धीरे गुंजन का नजरिया मेरे लिए बदलने लगा और हम दोनों एक दूसरे के नजदीक आते चले गए लेकिन अभी हमारे बीच में ऐसा कुछ भी नहीं था हम लोग सिर्फ एक अच्छे दोस्त थे। हम दोनों साथ में ही कॉलेज से घर जाया करते थे। मैं एक दिन गुंजन के गांव में ही उतर गया और उसके साथ साथ पैदल चलने लगा रोड से उसके गांव की दूरी 2 किलोमीटर थी। हम दोनों पैदल ही चल रहे थे मैंने गुंजन के हाथ को पकड़ लिया। मैंने जब उसके होठों को चूमा तो मुझे ऐसा लगा जैसे कि मैं जन्नत में चला गया मैंने पहली बार किसी लड़की को किस किया था। उस दिन हम दोनों के बीच जैसे सेक्स को लेकर एक एग्रीमेंट हो चुका था मैंने अपनी सेक्स की पहली नीव रख दी थी। उस दिन मैं सिर्फ गुंजन के साथ स्मूच कर पाया लेकिन उसके बाद तो हम दोनों के बीच यह अक्सर होने लगा। मेरा उसे चोदने का मन होने लगा था एक दिन मैं उसके गांव के पास ही उतर गया हम दोनों साथ में उतरे। मैंने उसे कहा आज मुझे तुम्हें चोदना है वह मुझे कहने लगे यह संभव नहीं है मैं जिससे शादी करूंगी उसी के साथ में सेक्स करूंगी। मैंने उसके स्तनों और उसके होठों को चूमना शुरू कर दिया।

Read More

मैं बहनचोद बना मुंह-बोली बहन को चोद कर – Part 2

मैंने अब उसकी चूत पर अपना हाथ रखा और सहलाने लगा तो वो एकदम से सिहर उठी और अपनी टांगें भींच दी। मैं उसे किस करता रहा और धीरे-धीरे उसकी चूत को मसलता रहा। अब उसने अपनी टांगें खोल दीं और मजा लेने लगी। अब मैं धीरे-धीरे नीचे की तरफ बढ़ने लगा। उसके बूब्स को किस किया और चूसने लगा और धीरे-धीरे पेट से किस करते हुए बहन की चूत तक पहुंच गया। उसकी सिसकारियां अब बहुत तेज हो गई थीं।

Read More
hinde sex storeimaa se sexantarvasna com hindi maichut land ki hindi storygujarati sax storihindi saxy satorybahan ki chudai storysister sex storiesanty ki chudaisex stotiessuhaagraat ki kahani in hindisex stoery hindihindi sex kahani familyantravshnaantravasajija sali kahani hindiantervasna sexy hindi storyantravasasna hindi storyhindi sax stroychodae ki kahaninew hindi sex stories.comsec khanibeti ki chudai hindiantarvasna hindi sexy stories comsexi kahni hindi mehindi sex kahaniya in hindimastram stories comhindi gay chudaiwww hinde sex stori comantervasna sexy storydeshi sexy kahanisex kahaniya hindemaa bete ki chudai ki kahaninon veg stories in hindi languagemaa ke sath sambhogboor ki kahani hindi maisex khani infirst time sex stories hindichut story comnew chudai kahani hindi meantarvasna story in hindisexy gay story in hindiland ki pyasi bhabichoot chatnaantarvasna bhai bahanchoti sister ko chodachachi ne seduce kiyavulgar sex storiesbahan se chudaisex story ganddidi chudai kahanibadi didi ki chudaisex kahani bhai behanhindi desi chuthindi stories of antarvasnabadi behan ki chudai storyhindi desi chutaunti sex storychudai ki kahani maa bete kibadi bahan ko chodaantarvasna didisexy sexy story hindianterwasna hindi storisxe kahanesuhagraat ki kahani hindi maisuhagrat sex storykamukta.xomhindi kahani gandiindian sex khaniahindi sex kahsniyabahan ki chudai ki storyhindi long sex kahanicodai ki kahanidirty kahanigandi khaniya with photossuhagrat kahani in hindihindi sambhog kahanihindi kahani chudaihindi mai sex storyantarvasna com new storysrx stories hindibadi didi ki chudai kahani